छोटी तलवार : लोककथा – Hindi Kahani, Hindi Story, Moral Story in Hindi

छोटी तलवार एक लोककथा है. यह एक गुरु और उसके शिष्य की कहानी है. जब शिष्य अहंकार में आकर अपने गुरु को ही युद्ध की चुनौती दे देता है. तब गुरु ने कैसे साबित किया कि गुरु आखिर गुरु ही होता है. ये जानने के लिए पढ़िए कहानी छोटी तलवार.

बहुत पहले की बात है. एक गुरु के अखाड़े में अस्त्र-शस्त्र की शिक्षा दी जाती थी। वहां दूर-दूर से नौजवान इसकी शिक्षा लेने आते थे। उन में से लक्ष्मण नाम का एक शिष्य गुरु का सबसे प्रिय था, क्योंकि तलवारबाजी में वह सबसे चालाक और फुर्तीला था।

Also read – टेढ़ी खीर – लोककथा, Hindi Story, Folk Story, Short Story

उसने शिक्षा समाप्त करने के बाद तलवारबाजी में बहुत नाम और दाम कमाया। लेकिन उसके मन में एक दुख रहता था कि इतनी शोहरत के बाद भी लोग उसे गुरु के शिष्य के रूप में ही जानते थे। सारा यश उसे नहीं बल्कि उसके गुरु को मिलता था।

उसने सोचा कि अगर वह अपने गुरु को पराजित कर देगा तो लोग उसके गुरु को भूल कर मेरा नाम याद करने लगेंगे। फिर एक दिन उसने अखाड़े में जाकर गुरु से कहा, ‘गुरुवर, मैंने कुछ ऐसी नई विधाएं सीखी हैं जिसे आप देखेंगे तो अचरज में पड़ जाएंगे। इसलिए मैं आपसे युद्ध करके अपना कौशल आपको दिखाना चाहता हूं।’

Also read – चतुर टॉम – Hindi Story, Story for Kids, Short Story, Kahani

उसके गुरु समझ गए कि शिष्य अहंकार में अंधा हो गया है। उन्होंने कहा, ‘यदि तुम चाहते हो तो ऐसा ही होगा। एक महीने बाद हम तुमसे अखाड़े में युद्ध करेंगे।’ कुछ दिनों के बाद जब लक्ष्मण अखाड़े में आया। तब वहां उसे मालूम हुआ कि गुरुजी चार हाथ लंबी म्यान बनवा रहे हैं। यह सुन कर उसने आठ हाथ की लंबी तलवार बनवा ली।

एक महीना बीत गया. तय समय पर गुरु चार हाथ लंबी म्यान लेकर और शिष्य आठ हाथ लंबी म्यान लेकर अखाड़े में आया। दोनों को युद्ध का संकेत मिला. संकेत मिलते ही शिष्य ने जब अपनी लंबी म्यान से लंबी तलवार निकाल कर हमला किया, तो गुरु ने लंबी म्यान से छोटी तलवार निकाल कर फुर्ती से उसके गले पर लगा दी।

Also read – सोच का फर्क – Kahani, Hindi Kahani, Moral Story in Hindi

गुरु की छोटी तलवार देख कर शिष्य अचंभित रह गया और घबराकर वहीं गिर गया। वह अपने गुरु से पराजित हो चुका था। तब गुरु ने कहा, ‘तुमने सुनी-सुनाई बातों में आकर लंबी तलवार बनवा ली। लेकिन तुम यह भूल गए कि छोटी तलवार से ही फुर्ती से हमला किया जा सकता है, लंबी तलवार से नहीं।

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि अहंकार हमारे ज्ञान पर पानी फेर देता है। इसलिए हमें कभी अपने आपमें अहंकार नहीं आने देना चाहिए. आपको यह कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

One thought on “छोटी तलवार : लोककथा – Hindi Kahani, Hindi Story, Moral Story in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *