तीन सीख – Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

यह एक राजा और उनके तीन पुत्रों की कहानी है. तीन सीख कहानी में राजा अपने तीनों पुत्रों को कुछ शिक्षा देने का मन बनाते हैं. वह तीन सीख क्या थी इस कहानी में हम जानेंगे. आइये इसे जानने के लिए पढ़ते हैं ये कहानी.

एक बार एक राजा ने अपने तीनों पुत्रों को बुलाया और बोला कि हमारे राज्य में नाशपाती का कोई पेड़ नहीं है। मैं चाहता हूं कि तुम सब चार-चार महीने के अंतराल पर इस पेड़ की तलाश में जाओ और पता लगाओ कि वह कैसा होता है।

Also Read – धीरे चलो – Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

तीनों पुत्र बारी-बारी से गए और लौट आए। राजा ने फिर से सभी पुत्रों को बुलाया और उनसे पेड़ के बारे में पूछा। पहले पुत्र ने पेड़ को बिल्कुल सूखा हुआ बताया। दूसरे पुत्र ने पेड़ को हरा-भरा लेकिन फलों से रहित बताया। तीसरे पुत्र ने पेड़ को हरा-भरा और फलों से लदा हुआ बताया।

Also Read – विद्वान ब्राह्मण की कहानी Hindi Story, Moral Story in Hindi, Short Story

इसके बाद तीनों पुत्र खुद को सही साबित करने के लिए लड़ने लगे। तभी राजा ने तीनों को रोका और बोला कि तुम्हें लड़ने की जरूरत नहीं है। तुम तीनों अपनी जगह सही हो। मैंने तुम तीनों को अलग-अलग मौसम में पेड़ खोजने भेजा था और तुमने जो देखा वह उस मौसम के अनुसार था। इससे मैं तुम्हें तीन सीख देना चाहता हूं।

Also Read – मेहनत – Mehnat, Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

पहली कि सही जानकारी के लिए किसी चीज को लंबे समय तक देखो-परखो। दूसरी यह कि मौसम की तरह ही वक्त भी एक सा नहीं रहता। अतः धैर्य रखो। तीसरी यह कि अपनी बात को ही सही मानकर उस पर अड़े मत रहो। दूसरों के विचारों को जानना भी जरूरी है। इस कहानी से हमें यह तीन सीख मिलती है कि सही जानकारी, सही वक्त और सही विचार ही हमें सफलता दिला सकते हैं।

One thought on “तीन सीख – Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *