पैरों के निशान – Moral Story in Hindi, Story for Kids, Short Story

यह एक केकड़ा और समुद्र की कहानी है. एक बार एक केकड़ा समुद्र के किनारे अपनी मस्ती में चला जा रहा था और बीच बीच में रुक रुक कर वह अपने पैरों के निशान देख कर खुश होता । आगे बढ़ता और पैरों के निशान देखता. उससे बनी डिज़ाइन देखकर वह बहुत खुश होता…,

Also read – Hindi Story – चालाकी का फल, Chalaki ka Phal, Hindi Kahani

अचानक समुद्र में एक लहर आयी और उसके पैरों के सब निशान मिट गये। इस पर केकड़े को बहुत गुस्सा आया. उसने समुद्र की लहर से बोला , “ए लहर मैं तो तुझे अपना दोस्त मानता था, पर ये तुमने क्या किया , तुमने मेरे बनाये सुंदर पैरों के निशानों को ही मिटा दिया. कैसी दोस्त हो तुम ?”

Also read – दूसरा पहलू – Moral Story in Hindi, Hindi Kahani, Dusra Pahlu

इसपर लहर बोली, ” अपने पीछे उन मछुआरों को देखो. ये मछुआरे लोग निशान देख कर ही तो केकड़ों को पकड़ रहे हैं. सुनो दोस्त! तुमको वो लोग पकड़ न लें, बस इसीलिए मैंने तुम्हारे निशान मिटा दिए !

Also read – साधु का नुस्खा – Hindi Kahani, Hindi Story, Moral Story in Hindi

सच भी यही है कि कई बार हम सामने वाले की बातों को समझ नहीं पाते और बिना कुछ सोचे उन्हें गलत समझ लेते हैं. जबकि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। इसलिए मन में वैर लाने से बेहतर है कि हम सोच समझ कर निष्कर्ष निकालें. आपको यह कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

2 thoughts on “पैरों के निशान – Moral Story in Hindi, Story for Kids, Short Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *