बाज की उड़ान – Hindi Kahani, Moral Story in Hindi, Short Story

बाज की उड़ान एक राजा और उसके दो बाजों की कहानी है. यह एक मोरल स्टोरी है. राजा बाज के न उड़ने से परेशान था. लेकिन एक दिन उसने अपने बाजों को आसमान में ऊँचाई पर उड़ते हुए देखा. ये कैसे हुआ इसे जानने के लिए पढ़िए कहानी बाज की उड़ान.

एक बार एक राजा को बाज के दो छोटे-छोटे बच्चे उपहार में मिले। राजा ने उन्हें पालने के लिए एक आदमी को भर्ती कर लिया। कुछ समय बाद जब राजा दोनों बाजों को देखने के लिए गया। तो देखा कि दोनों बाज बड़े हो चुके थे। भर्ती किए गए आदमी से राजा ने कहा कि वह बाजों को उड़ता हुआ देखना चाहता है। उस आदमी ने बाजों को उड़ा दिया।

Also read – एक गिलास पानी – Hindi Kahani, Moral Story in Hindi, Short Story

राजा ने देखा कि एक बाज तो आसमान में ऊंचाई पर उड़ रहा था. लेकिन दूसरा बाज कुछ ऊंचा उड़कर वापस उसी डाल पर आकर बैठ गया जहां से वह उड़ा था। राजा ने आदमी से इसका कारण पूछा. तो उस आदमी ने बताया कि वह बाज शुरू से ऐसा ही करता है, डाल को छोड़ता ही नहीं है।

Also read – नुकीले पत्थर – Nukeele Patthar, Hindi Kahani, Moral Story in Hindi

तब राजा ने पूरे राज्य में यह ऐलान करवा दिया कि जो भी उस बाज को उड़ना सिखाएगा, उसे बहुत कीमती इनाम दिया जाएगा। यह सुनकर बहुत से लोग आए. लेकिन बाज का वही रवैया रहा। एक दिन राजा ने देखा कि दूसरा बाज भी पहले बाज के साथ आसमान में ऊंचाई पर उड़ रहा था।

Also read  –  मकड़ी का जाला – Hindi Kahani, Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

राजा ने तुरंत ही उस व्यक्ति का पता लगाने को कहा जिसने यह कारनामा किया था। कुछ ही देर में उस व्यक्ति का पता लग गया. वह व्यक्ति एक किसान था। जब राजा ने उससे पूछा कि उसने बाज को कैसे उड़ना सिखाया. तो किसान ने जबाब दिया कि उसने वह डाल ही काट दी जिस पर बाज आकर बार-बार बैठ जाता था।

Also read – छोटी तलवार : लोककथा – Hindi Kahani, Hindi Story, Moral Story in Hindi

बाज की उड़ान कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि अपनी बुरी आदत को छोड़कर ही हम अपनी क्षमता की पहचान कर सकते हैं. आपको यह कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *