बोलती गुफा की कहानी – Bolti Gufa ki Kahani, Hindi Kahani, Hindi Story

बोलती गुफा की कहानी – Bolti Gufa ki Kahani, Hindi Kahani, Hindi Story . आज हम आपको बोलती गुफा की कहानी सुनाने जा रहे हैं. यह एक शेर और एक चालाक गीदड़ की कहानी है. बोलती गुफा की कहानी में हम देखेंगे कि कैसे एक गीदड़ अपने चालाकी से शेर के चंगुल में फंसने से खुद को बचाता है. तो आईये पढ़ते हैं बोलती गुफा की कहानी.

एक दिन एक भूखा शेर शिकार की खोज में जंगल में घूम रहा था। घूमते-घूमते वो थक गया। उसकी भूख और भी बढ़ गई। अचानक उसे एक गुफा नज़र आई। शेर ने सोचा कि इस गुफा में ज़रूर कोई जानवर रहता होगा। अच्छा होगा कि मैं उस झाड़ी में छिप जाऊं। जैसे ही वह निकलेगा मैं उसे धर दबोचूंगा।

Also Read – लालची कबूतर की कहानी – Lalchi Kabootar Ki Kahani | Hindi Story | Stories for Kids

शेर बहुत देर तक उस गुफा के बाहर इंतज़ार करता रहा, लेकिन कोई भी जानवर गुफा से बाहर नहीं आया। तब शेर ने सोचा कि लगता है वह जानवर इस वक्त गुफा में ना होकर कहीं बाहर गया है। इसलिये उसे गुफा के अन्दर जाकर उसका इंतज़ार करना चाहिए। जैसे ही वह गुफा के अन्दर आएगा वह उसे खा जाएगा. यह सोचकर शेर उस गुफा के अन्दर जाकर छिप गया।

Also Read – चालाक खरगोश की कहानी – Chalak Khargosh ki Kahani, Hindi Story, Stories for kids

उस गुफा में एक गीदड़ रहता था। थोड़ी देर बाद जब वह वापस आया तो उसे उस गुफा के बाहर किसी के पैरों के निशान दिखाई दिये। उसे यह निशान किसी बड़े एवं खतरनाक जानवर के प्रतीत हुए। उसे किसी खतरे का एहसास हुआ। वह उस खतरे को भांप गया.

Also Read – नया मोड़ – राजा और फकीर की कहानी Hindi Kahani

गीदड़ बहुत चालाक और होशियार था। उसने सोचा कि गुफा में जाने से पहले देखे माजरा क्या है। उसने जोर से गुफा को आवाज़ लगाई – “गुफा ! ओ गुफा !” लेकिन जवाब कौन देता? गीदड़ ने फिर आवाज़ लगाई, “अरे मेरी गुफा, तू जवाब क्यों नहीं देती ? आज तुझे क्या हो गया ? हमेशा मेरे लौटने पर तू मेरा स्वागत करती है। आज क्या हो गया है तुझे। अगर आज तूने जवाब नहीं दिया तो मैं किसी दूसरी गुफा में चला जाऊंगा।”

Also Read – मजदूर के जूते की कहानी – Majdoor Ke Jute Ki Kahani | Hindi Story | Moral stories

गीदड़ की बात सुनकर शेर ने सोचा कि शायद यह गुफा कुछ बोलकर गीदड़ का स्वागत करती है। आज मेरे यहां होने की वजह से शायद यह डर गई है। अगर गीदड़ का स्वागत नहीं किया तो वह चला जाएगा। ऐसा सोचकर शेर अपनी भारी आवाज़ में जोर से बोला- “आओ, आओ मेरे दोस्त, तुम्हारा स्वागत है।” शेर की आवाज़ सुनकर गीदड़ वहां से भाग गया।

Also Read  – जादू की छड़ी – Jadu ki Chadi Kahani | Hindi Story | Stories for kids

तो देखा आपने. कैसे एक गीदड़ अपनी चालाकी से शेर के चंगुल में फंसने से बच गया. बोलती गुफा की कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें हर मुश्किल समय में हिम्मत और होशियारी से काम लेना चाहिए. फिर हर मुश्किल से हम बच जाएंगे. अगर आपको यह कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने प्रियजनों के साथ भी शेयर करें.

2 thoughts on “बोलती गुफा की कहानी – Bolti Gufa ki Kahani, Hindi Kahani, Hindi Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *