मेहनत – Mehnat, Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

यह एक शॉर्ट मोरल स्टोरी है. इस कहानी में हमें मेहनत के बारे में बताया गया है. मेहनत से हर काम संभव है. एक किसान के साथ क्या मुश्किल आई और उसने उसका हल कैसे ढूंढ़ा. यदि हम सच्चे दिल से मेहनत करे तो हमें उस काम में जरूर सफलता मिलेगी. आइये पढ़ते है कहानी मेहनत.

Also Read – चूहे की आत्मा – Chuhe ki Aatma, Hindi Story, Story for kids in hindi

एक गांव में ज्योतिषियों ने भविष्यवाणी की कि आने वाले बारह साल तक गांव में पानी नहीं बरसेगा। यह सुनकर गांव वाले दुःखी हो गए और घर छोड़कर जाने लगे। एक किसान गांव को छोड़कर नहीं गया। उसने सोचा कि बारह साल तक बारिश तो होने वाली नहीं है तो फिर हल का क्या काम? उसने उन्हें उठाकर एक ओर रख दिया।

Also Read – भगवान की खोज – Bhagwan ki Khoj, Hindi Story, Lok Katha

सात दिन तक वह किसान इसी सोच-विचार में बैठा रहा किए बिना पानी के वह गुजारा कैसे करेगा। काफी सोच-विचारकर उसने निर्णय लिया कि वह खेत में हल जोतेगा। किसान कई दिनों तक लगातार खेत जोतता रहा। एक बादल आसमान से गुजरा। बादल ने किसान से कहा, भाई, तुमने सुना नहीं कि यहां पर 12 साल तक पानी नहीं बरसेगा, फिर तुम क्यों बेवजह मेहनत कर रहे हो?

Also Read – मूंग के दाने – Kahani, Hindi Story, Moral Story in Hindi

बादल की बात पर किसान बोला, ‘मत बरसो, मैं तो खेत इसलिए जोतता हूं कि कहीं 12 साल बाद मैं खेत जोतना ही न भूल जाऊं।’ किसान की बात सुनकर बादल हैरान रह गया और वह सोचने लगा कहीं 12 सालों में मैं भी बरसना भूल गया तो…। यह सोचकर वह बादल वहीं बरसने लगा। उसे बरसते देख अन्य बादल भी बरसने लगे। किसी ने सही कहा है मेहनत का कोई विकल्प नहीं है। आपको यह कहानी कैसी लगी. हमें कमेंट करके जरूर बताएं और इस कहानी को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.

One thought on “मेहनत – Mehnat, Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *