शेर और चूहा की कहानी – Sher aur Chuha ki Kahani | Short Story

यह कहानी है एक शेर और चूहा की. जब एक चूहा शेर की गुफा में पहुँच जाता है तो उसके साथ क्या होता है. इस कहानी में हम यही जानेंगे. तो पढ़ने के लिए तैयार हो जाइए शेर और चूहा की कहानी.

एक बार एक शेर अपनी गुफा में आराम से सो रहा था । तभी एक चूहा कहीं से आकर शेर के ऊपर कूदने लगा । जिससे शेर की नींद टूट गयी । शेर को चूहे पर इतनी ज़ोर से गुस्सा आया कि उसने उसे अपने पंजों में जकड़ लिया और उसे मारने का सोचने लगा। चूहा बहुत डर गया। उसने काँपते हुए शेर से कहा “हे शेर राजा ! मुझे माफ कर दिजिये, मुझ से बहुत भारी भूल हो गई । अगर आप मुझे जाने देगें तो आपका बहुत उपकार होगा और आपके इस उपकार को मैं वक्त आने पर जरूर चुका दूंगा।’

Also Read – चालाक बन्दर की कहानी – Chalak Bandar ki Kahani | Short Story | Stories for kids | Hindi Story

यह सुनकर शेर को चूहे पर दया आ गई और उसने चूहे को जाने दिया । पर वह मन ही मन हँसा कि भला यह छोटा सा चूहा मेरा उपकार क्या चुकाएगा । समय बीतता गया और एक दिन हमेशा की तरह शेर शिकार की तलाश में जंगल में घूम रहा था कि एक शिकारी ने उसे चलाकी से उसे अपने जाल में फंसा लिया।

शेर अपनी सहायता के लिए जोर-जोर से दहाड़ मारने लगा । शेर की अवाज सुनकर चूहा वहाँ आ गया । शेर को जाल में फंसा देखकर उसने तुरन्त अपने नुकीले दाँतों से शिकारी का जाल काट दिया और शेर को जाल से आज़ाद कर दिया । शेर ने चूहे का बहुत धन्यवाद किया ।

Also Read – कहानी : सबसे अच्छी मिठाई – Sabse achchi mithai Hindi Kahani | Hindi Story

उस दिन शेर को समझ आया कि किसी भी प्राणी की काबलीयत उसके भारी व बड़े शरीर से नहीं लगानी चाहिए और कभी छोटे-बड़े का भेदभाव नहीं करना चाहिए। हमेशा सबकी मदद करनी चाहिए क्योकि जो दूसरों की मदद करता है, उसकी भी सब मदद करते हैं। अगर आपको कहानी पसंद आई हो. तो इसे अपने मित्रों के साथ शेयर करें.

2 thoughts on “शेर और चूहा की कहानी – Sher aur Chuha ki Kahani | Short Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *