सच्ची मेहनत की करामात – Hindi Story, Hindi Kahani, Moral Story in Hindi

सच्ची मेहनत की करामात एक किसान की कहानी है. जब उसके एक बैल की मौत हो जाती है. तब उस किसान ने कैसे अपने खेत की बुआई की. सच्ची मेहनत की करामात में यही दिखाया गया है. सच्ची मेहनत की करामात ही थी कि उसके खेत में अनाज की जगह मोती उगे थे. तो आइये पढ़ते हैं पूरी कहानी.

Also Read – भगवान की खोज – Bhagwan ki Khoj, Hindi Story, Lok Katha

किसी गांव में एक किसान रहता था। उसकी थोड़ी-सी खेती-बाड़ी थी। उससे उसे जो कुछ मिल जाता, उसी से वह अपनी छोटी-सी गृहस्थी की गुजर-बसर कर लेता था। कभी किसी के आगे हाथ नहीं फैलाता था। संयोग की बात थी कि उस किसान का एक बैल मर गया। बेचारा बड़ी परेशानी में पड़ गया। खेत को बोना जरूरी था, पर बोए कैसे? बैल तो एक ही रह गया था। उसने बहुत सोचने के बाद एक फैसला किया। हल के जुए में एक ओर बैल जोता और दूसरी ओर अपनी स्त्री और फिर काम करने लगा।

Also Read – जीवन का आनंद – Jeevan Ka Aanand, Moral Story in Hindi, Hindi Story, Kahani

उसी समय वहां का राजा अपनी रानी के साथ रथ पर उधर से गुजरा। अचानक उसकी निगाह हल पर गई, जिसके जुए में एक तरफ बैल और दूसरी तरफ स्त्री थी। उसे बड़ा अचरज हुआ, साथ ही दुख भी। उसने रथ को रोका और किसान के पास जाकर कहा-“यह तुम क्या कर रहे हो?” किसान ने निगाह उठाकर उसकी ओर देखा और बोला-“मेरा एक बैल मर गया है और खेत को बोना जरूरी है।” राजा ने कहा- “भलेमानस! कहीं स्त्री से भी बैल का काम लिया जाता है?” किसान बोला-“क्या करूं और उपाय ही क्या है?”

Also Read – तीन सीख – Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

“उपाय!” राजा ने कहा- “तुम मेरा एक बैल ले लो। जाओ!” किसान बोला-“मेरे पास इतना समय नहीं है।” इतना कहकर उसने बैल को आगे बढ़ा दिया। राजा ने कहा- “सुनो भाई! तुम अपनी स्त्री को बैल लाने भेज दो। जब तक वह आए, तब तक मैं उसकी जगह काम करूंगा।” किसान की स्त्री ने कहा-“तुम तो बैल देने को तैयार हो, पर तुम्हारी औरत ने इंकार कर दिया तो?” राजा बोला-“नहीं ऐसा नहीं होगा।” किसान राजी हो गया.

Also Read – धीरे चलो – Moral Story in Hindi, Hindi Story, Short Story

उसकी स्त्री बैल लेने चली गई और राजा ने हल का जुआ अपने कंधे पर रख लिया। किसान की स्त्री ने जब रानी के पास जाकर राजा की बात कही तो वह बोली बहन! एक बैल से कैसे काम चलेगा! तुम्हारा बैल कमजोर है। हमारा बैल मजबूत है। दोनों साथ काम नहीं कर सकेंगे। तुम हमारे दोनों बैलों को ले जाओ।” स्त्री बड़ी लज्जित हुई उसे तो डर था कि वह कहीं एक बैल भी देने से इंकार न कर दे। यहां एक छोड़, दोनों को देने के लिए रानी तैयार थी।

Also Read – विद्वान ब्राह्मण की कहानी Hindi Story, Moral Story in Hindi, Short Story

स्त्री बैल लेकर आई और पूरे खेत की बुवाई हो गई। कुछ समय बाद फसल उगी। किसान ने देखा तो उसे अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हुआ। सारे खेत में अनाज पैदा हुआ, लेकिन जितनी जमीन में राजा ने हल चलाया था और उसका पसीना गिरा था, उतनी जमीन में मोती उगे थे। यह सच्ची मेहनत की करामात ही थी। जहां राजा जनता की सेवा में अपना पसीना बहाता है, वहां ऐसा ही फल मिलता है।

2 thoughts on “सच्ची मेहनत की करामात – Hindi Story, Hindi Kahani, Moral Story in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *