सुखदा मणि – Sukhda Mani, Hindi Story, Short Moral Story

यह एक संत और चोरों की कहानी है. इस कहानी में चोरों ने सुखदा मणि के लिए संत का अपहरण कर लिया था. फिर उन्हें सुखदा मणि की सच्चाई मालूम होती है. वह सुखदा मणि क्या थी. यह जानने के लिए पढ़िए कहानी.

प्राचीनकाल में एक बहुत बड़े संत थे। वे धर्मश्रद्धा के कारण सदा प्रसन्न रहते थे, उनके चेहरे से हमेशा उल्लास टपकता रहता। चोरों ने समझा कि उनके पास जरूर कोई बड़ी दौलत है, वरना हर वक़्त इतने प्रसन्न रहने का और क्या कारण हो सकता है?

Also Read – लोक कथा – दस दिन | Lok Katha, Hindi Story, Hindi Moral Story, Short Story

एक दिन चोरों को अवसर मिल गया और चोरों ने उस संत का अपहरण कर लिया, वह उन्हें जंगल में ले गए और बोले, “हमने सुना है कि आपके पास सुखदा मणि है, इसी से आप इतने प्रसन्न रहते हैं, जल्दी से आप उसे हमारे हवाले कीजिए, अन्यथा आपकी जान की खैर नहीं।”

Also Read – भेड़िया और बाँसुरी – Moral Story in Hindi, Short Story, Hindi Story

संत ने एक-एक करके प्रत्येक चोर को अलग-अलग बुलाया और उनसे कहा, “चोरों के डर से मैंने उसे जमीन में गाड़ दिया है। यहाँ से कुछ ही दूर पर एक स्थान है। अपनी खोपड़ी के नीचे चंद्रमा की छाया में खोदना, तुम्हें सुखदा मणि मिल जाएगी।”

Also Read – सच्ची दोस्ती – Hindi Story, Hindi Kahani

संत आराम से वहीं पेड़ के नीचे सो गए। चोर अलग-अलग दिशा में निकल पड़े और जहाँ तहाँ खोदते फिरे। जरा सा ही गड्ढा खोद पाते कि छाया बदल जाती और उन्हें जहाँ तहाँ खुदाई करनी पड़ती। चोरों ने रात भर गड्ढे खोदें. जिससे रात भर में सैकड़ों छोटे-बड़े गड्ढे बन गए, पर कहीं भी उन्हें मणि नहीं मिला.

Also Read – मंजिल की राह – Manzil Ki Rah, Motivational Story, Hindi Story

चोर हताश होकर वापस लौट आए और संत पर गलत बात कहने का आरोप लगाकर गुस्सा दिखाने लगे। इस पर संत को हंसी आ गयी, उन्होंने बोले- “मूर्खों! मेरे कथन का अर्थ समझो।खोपड़ी तले सुखदा मणि छिपी है, मतलब धार्मिक विचारों के कारण मनुष्य प्रसन्न रह सकता है। तुम भी अपना दृष्टिकोण बदलकर देखो, तुम भी हमेशा प्रसन्न रहोगे।”

चोरों को यथार्थता का बोध हुआ तो वे अपनी आदतें सुधारकर प्रसन्न रहने की कला सीख गए। चोरों ने अपना दृष्टिकोण बदलकर लिया और खुशी-खुशी रहने लगे. यही थी वह सुखदा मणि। आपको यह कहानी कैसी लगी. हमें कमेंट करके जरूर बताएं. और इसे अपने मित्रों के साथ भी शेयर करे.

One thought on “सुखदा मणि – Sukhda Mani, Hindi Story, Short Moral Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *